Thursday, December 28, 2017

कैम्पिंग ऐट हनुमानगढ़ पीक इन विंटर (Camping at Hanumangarh peak in winter)

21 दिसम्बर 2017
साल जा रहा है, कैलेंडर पर नंबर बदलने वाला है । लोगों ने 4 अंकों (2017) के साथ कुछ को चिपका दिया है । जिन्दगी कैद हो गई है 365 दिनों में, जिसकी कलाइयों पर सोमवार से शुक्रवार की बेड़ियाँ बंधी हैं । जब भी निराश होती है तो शनिवार और इतवार का ठुल्लू पकड़ा देते हैं । जिन्दगी बेजुबान क्या हुई हमने उसे जानवर ही समझ लिया । आज की फिलोसफी समाप्त हुई चलो हर दिन को नया साल बनाएं ।

Wednesday, December 27, 2017

हनुमानगढ़ चोटी : ये ना हो पायेगा (Hanumangarh Peak : English mein kya kahenge??)

14 दिसम्बर 2017
हिमाचली सर्दियों ने हिमालय के आँगन में दस्तक दे दी है वो भी सूखी वाली । अक्टूबर से राह देख रहे हैं कि कब पहाड़ों पर सर्दियों का चिट्टा रंग चढ़ेगा ? । 10 नवम्बर को एक्युवेदर ने बताया कि अगले हफ्ते बारिश और बर्फ का योग है तो “आँखें ऐसे चमकने लगी जैसे किसी ने अपने हजार बीट-कोइन मेरे नाम कर दिए हो” ।

Tuesday, December 26, 2017

बैजनाथ के टिक्की-समोसे (Tikki-samosa of Baijnath)

26 दिसम्बर 2017
जून में बिजली गिरी थी बी.एस.एन.एल. के मोडम पर । वैसे तो इससे पहले भी कई बार गिरी थी और हर बार श्रीमती बिजली देवी ने किसी-न-किसी को भस्म किया । घर के तमाम इलेक्ट्रोनिक गैजेटस में से सबसे ज्यादा प्यारा उसे बी.एस.एन.एल. का मोडम लगा जिसको न जाने उसने बिजली मारकर कितनी ही बार धुआं-धुआं किया ।